यह ब्लॉग खोजें

पिघला हुआ विद्रोह

शुक्रवार, 4 सितंबर 2015

सूरज धीरे-धीरे ऊपर उठ रहा था और बेमतलब शोर करते पीपल के पत्तों से छनकर आती उसकी किरणें सीबू के शान्त चेहरे पर पड़ने लगी थीं।उसके गालों पर दोनों ओर से बह आयी आँसू की टेढ़ी मेढ़ी लकीरें अब भी कुछ-कुछ गीली थीं।अपनी अधमुंदी पलकों से वह एकटक आँगन के उस दरवाजे को देख रही थी जो एक उसके लिए छोड़कर शेष सब के लिए खुला हुआ था।रसोई में  अभी-अभी छौंकी गयी सब्जी की महक उसके कल शाम से भूखे पेट के लिए बड़ी मोहक हो सकती थी मगर इस वक्त उसका ध्यान उधर भी बिल्कुल न था।वह कुछ सोच भी नहीं रही थी।सोचती जरूर मगर उसे कभी किसी बात के लिए सोचना नहीं पड़ा था।इसलिए उसकी सोचने की आदत न थी।एक घड़ी पहले जब माँ ने कंधों के पास से दोनों हाथों को पकड़ कर उसे बुरी तरह झकझोरा था और फिर उसे दरवाजे से बाहर कर दिया था तब अवश्य एक बार उसकी आँखों में बड़ी गहराई तक आंतक उतर आया था।मगर इस वक्त वह एकदम सहज और निर्विकार लग रही थी।
         माँ की खास शिकायत थी---सीबू अब जिद्दी और बेकाबू होती जा रही है।उस पर माँ का रोब अब कत्तई नहीं रह गया है।उसके कहने को वह अक्सर टाल जाती है।और उसे गुमराह करने में सब से बड़ा हाथ है पड़ोस के शान्ति बाबू की उसी की हम उम्र लड़की पप्पी का।माँ ने कोई कोशिश बाकी न रखी कि पप्पी उसके यहाँ न आये अथवा सीबू स्कूल जाते समय पप्पी को भी अपने साथ न ले-ले। अथवा दोनों दोपहरी के एकान्त में चुपके से सड़क पर कदरे बीनने न पहुँच जायँ।मगर माँ की हर कोशिश नाकामयाब हुई और इस नाजुक उम्र में ही सीबू उसकी आँख में किरकिरी बन गयी।
            कल शाम छोटी लड़की ने टट्टी की तो किसी काम में हाथ फ़ंसे होने की वजह से माँ ने सीबू से कहा कि वह उसे कागज में उठाकर नीचे की नाली में फेंक दे।बस सीबू ने बगावत कर दी।उसने हाथ में पकड़ी हुई किताब को और भी कस कर पकड़ लिया तथा आँखें अक्षरों पर और तेजी से दौड़ाने लगी।माँ जितना ही चीखती गयीं सीबू के कान उतने ही बहरे होते गये।और तब माँ ने गुस्से से उसके हाथ की किताब छीनकर दूर फेंक दी तथा उसे घसीटकर टट्टी के करीब ला पटका।सीबू न चीखी, न रोई मगर उसने धीरे से टट्टी को उठाकर बारजे के नीचे गिरा दिया।टट्टी नाली में न जा चबूतरे पर बिखर गयी।माँ अपेक्षा करती थीं कि सीबू ही अपनी इस गलती को ठीक करे।वह नीचे जाकर टट्टी को नाली में गिराये और चबूतरे को भी साफ कर दे।मगर सीबू--- बाल नोचवाये जाने और चाँटे पर चाँटे खाये जाने के बावजूद वह अपनी जगह बुत बनी बैठी रही।कई बार आँसू छलके और सूखे।उसने रात का भोजन भी नहीं लिया और यों ही सो गयी।
            रात दफ्तर से लौटने पर मुझे बताया गया।सीबू इस हद तक पहुँच सकती है मुझे यकीन नहीं हो रहा था।मगर पत्नी कह रही थी इसलिए मानना पड़ा।चूँकि मैं अपने बच्चे को क्या मुहल्ले या कहीं के किसी भी बच्चे को इतना खतरनाक नहीं मानता इसलिए बात मेरे भीतर जम नहीं रही थी।फिर सीबू की तो बात ही और है।उसकी भोली आँखों में एक अजीब मासूमियत घुली रहती है।लगता है कि जरा भी जोर से बोलो तो वे छलक पड़ेंगी।उसे कोई अलग से नहीं पढ़ाया फिर भी वह इतनी तेज है कि इस साल उसे डबल प्रमोशन मिल गया।वह दो के बाद चौथे दरजे में कर दी गयी।उसी सीबू  के बारे में इतनी बातें सुनकर मन न जाने कैसा हो उठा।
            सुबह मैंने सीबू को अपने पास बुलाया। मेरा सोचना सच था।उसका चेहरा हमेशा की तरह मासूम था।आँखों में बीती हुई यातना के प्रति जैसे कोई शिकायत न थी।मैंने प्यार से उसके बालों को सहलाते हुए पूछना शुरू किया, ‘कल शाम तूने यह क्या शरारत की है? सीबू, तू तो बहुत समझदार और अच्छी लड़की है,बोल?’
जबाब में वह खामोश फर्श की ओर टुकुर-टुकुर ताकती रही।
मैंने कंठ में दूना प्यार उडेलकर पूछा,‘कहीं माँ से भी जिद की जाती है? माँ कितना प्यार करती हैं तुझे! उसने एक काम करने के लिए कह दिया तो उसे तूने सुना क्यों नहीं?’
       लेकिन सीबू निश्चल थी जैसे मेरी बात उसके कानों में प्रविष्ट नहीं हो रही है।मुझे अचानक डर महसूस होने लगा कि कहीं मेरा सोचना गलत न निकले।किसी भी अवस्था में सीबू के प्रति अपनी धारणा बदलने में मुझे बेहद कष्ट होता।
            मैंने अपनी आवाज भरसक मुलायम ही रखते हुए पूछा,अपनी छोटी बहन की टट्टी तो तूने और भी कई बार फेंकी है।फिर कल क्या बात हो गयी?चबूतरे पर से टट्टी को नीचे नाली में क्यों नहीं गिराया?’
            सीबू बुत बन गयी।निःशब्द और अकम्प।मुझे लगा कि मैं अपना धैर्य खो रहा हूं और उसके लिए मुझे काफी मानसिक परिश्रम करना पड़ रहा है।फिर भी मैने उसके बालों को पहले की तरह सहलाते हुए अपनी बात जारी रखी, ‘तू तो रानी बिटिया है न ! इस तरह की जिद नहीं करनी चाहिए।इस बार गलती से ऐसा हो गया।अब आगे कभी इस तरह माँ की बात नहीं टालेगी न ?’
            और सीबू एकदम खामोश !
            मेरा धैर्य टूटने लगा।आवाज में अनचाहे तल्खी आ गयी, ‘बोल, चुप क्यों है? मेरी बात का जबाव क्यों नहीं देती ?’
मगर सीबू बहरी हो गयी थी।
            मेरी आवाज कठोर हो गयी, ‘मुँह में ताला लगा रखा है क्या ? बोल, तो कभी इस तरह की शरारत नहीं करेगी ?’
‘....................................................’
मैं पूछता हूं तू बहरी हो गयी है क्या ?’
‘.....................................................’
लगाऊँ दो हाथ !कल माँ  से लड़ी और आज मेरा सामना करने के लिए तैयार है!
‘..................................................’
चट चट चट!मैंने उसकी कनपटी पर तीन चार तमाचे जड़ दिये।सीबू के चेहरे से मासूमियत गायब हो चुकी थी।उसमें और गंदे नाले की पुलिया पर झगड़ने वाले बच्चों में कोई फर्क न रह गया था।उसके गिरते हुए आँसुओं में मुझे किसी खतरनाक साजिश की बू आ रही थी।साफ जाहिर हो गया कि अभी-अभी जो इमारत ढही है वह बालू की थी !
 उसी समय पत्नी ने प्रवेश करके कहा, ‘मैं एक घंटे से तुम्हारा नाटक देख रही थी।शायद तुम्हें सुबहा था कि सारा कसूर मेरा है, तुम्हारी बच्ची तो एकदम दूध की धुली हुई है।अब तो खुल गयीं आँखे ?’
            कहने के बाद जो गुस्सा बचा उसे सीबू के दोनों हाथ पकड़कर घर से बाहर धकेलते हुए पूरा कर दिया।खबरदार, जो इस घर में पैर रखा।आज मैं तुझे दिन भर भूखी रखूँगी।देखती हूं तू कब तक मेरा सामना करती है!
            और अब गरमी का सूरज काफी ऊपर चढ़ आया है।सीबू पीपल के नीचे उसी तरह उकडूं होकर निश्चल लेटी हुई है।धूप पहले से तेज हो गयी है और उसके गालों पर से आंसू की लकीरें शायद अब सूख चुकी हैं।
            मैं आफिस जाने के लिए साइकिल पर बैठता हुआ एक बार उस ओर देखता हूँ।पता नहीं किस कोने से एक इच्छा झांकने लगती है--सीबू एक नजर मुझे देख लेती।मुझे भ्रम हुआ--शायद वह मुझे देख रहीं है! मगर नहीं, उसकी पलकें अधमुंदी हैं जिनके नीचे से वह केवल सामने के कुछ खुले दरवाजे में जाते आते पैरों को ही देख सकती हैं।
            मैं खाँसता हूँ, शायद उसे मेरे वहां खड़े होने का अहसास हो जाय और अचानक उसकी पलकें कुछ और खुल जाएं।लेकिन उसकी समाधि की अखंडता तो एक चुनौती बनी हुई है।और मैं पैडिल पर धीरे-धीरे पैर मारता हुआ आगे बढ़ने लगता हूं।
                पता नहीं कहां से सामने रैक पर रखी हुई फाइल पर एक कीड़ा आ गिरा है।वह निश्चल है, जिन्दगी की कोई हरकत नहीं नजर आती, जैसे मुर्दा हो।अचानक वह कीड़ा धीरे-धीरे बड़ा होने लगता है।वह एक लाल बूटों वाली फ्राक पहन लेता है।उसकी अधमुंदी पलकों के नीचे से मटमैली सी कुछ पतली लकीरें बह निकलती हैं।
            मैं अपनी दोनों कोहनियों को थोड़ा झटकता हूं।वह फिर कीड़ा बन गया है और उसी तरह निश्चल पड़ा हुआ है।मैं क्षण भर के लिए उस पर से अपनी आँखें हटाता हूँ कि पता नहीं किधर से एक छिपकली निकलती है और उसक कीड़े को चट कर जाती है।मैं सिहर उठता हूँ।अपने चकराते हुए सिर को दोनों हथेलियों में थामने को कोशिश करता हूं।यह क्या हो रहा है।
            आज मैं कितना प्यासा हो उठा हूं।गिलास पर गिलास खाली करता चल रह हूं।पर खुश्की खत्म होने का नाम नहीं ले रही है।दिन काटे नहीं कट रहा है।सेकंड की सूइयाँ इतना सुस्त क्यों हो गयी हैं।लोग कितना गलत कहते हैं कि वक्त बहुत तेजी से भागता है।
            शाम घर पहुँचते ही पत्नी खुशखबरी देती है, ‘सीबू अब फिर एक अच्छी लड़की बन गयी है।उसने अपनी गलती मान ली है और अपने कान पकड़ कर तीन बार कहा है कि अब ऐसी हरकत वह कभी नहीं करेगी।उसने मेरे और बड़े भइया के पैर छुए हैं।
            मन पर से जैसे एक बड़ा बोझ हट जाता है।सब कुछ इतने  सहज ढंग से हो जायेगा मैं सोच भी नहीं सकता था।
            मै अपने कमरे में लौटने को होता हूं कि पीछे से आकर सीबू मेरे पैर छू लेती है।मैं गदगद हो उठता हूं।और प्यार से उसका चेहरा ऊपर उठता हूं।
            मगर यह क्या है!मैं उसका चेहरा देखकर कांप उठता हूं।मैं यह नहीं चाहता।मुझे तो पीपल के नीचे लेटी हुई अपनी वही सीबू चाहिए। धूप की तेजी से जिसके दोनों गाल तमतमा आये हों और जिन पर फैली हुई आंसुओं की लकीरें मुझे खामोशी के साथ आवाज देती हों।नहीं, सीबू की माँ, तुम्हें धोखा हुआ है।तुमने आज एक बड़ी कीमती चीज खो दी और तुम्हें उसका जरा भी अहसास नहीं है।
            मैं सीबू के शान्त चेहरे को अपनी काँपती उँगलियों से सहलाता हुआ पीड़ा से कराह उठता हूँ।
                                         
                                  0000000000

लेखक
प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव
11मार्च,1929 को जौनपुर के खरौना गांव में जन्म।शुरुआती पढ़ाई जौनपुर में करने के बाद बनारस युनिवर्सिटी से हिन्दी साहित्य में एम0ए0।उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरी।पिछले छः दशकों से साहित्य सृजन मे संलग्न।देश की प्रमुख स्थापित पत्र पत्रिकाओं सरस्वती,कल्पना,प्रसाद,ज्ञानोदय,साप्ताहिक हिन्दुस्तान,धर्मयुग,कहानी,नई कहानी,विशाल भारत, आदि  में कहानियों,नाटकों,लेखों,तथा रेडियो नाटकों,रूपकों के अलावा प्रचुर मात्रा में बाल साहित्य का प्रकाशन।आकाशवाणी के इलाहाबाद केन्द्र से नियमित नाटकों एवं कहानियों का प्रसारण।बाल कहानियों,नाटकों,लेखों की अब तक पचास से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।वतन है हिन्दोस्तां हमारा(भारत सरकार द्वारा पुरस्कृत)अरुण यह मधुमय देश हमारा”“यह धरती है बलिदान की”“जिस देश में हमने जन्म लिया”“मेरा देश जागे”“अमर बलिदान”“मदारी का खेल”“मंदिर का कलश”“हम सेवक आपके”“आंखों का ताराआदि बाल साहित्य की प्रमुख पुस्तकें।इसके साथ ही शिक्षा विभाग के लिये निर्मित लगभग तीन सौ से अधिक वृत्त चित्रों का लेखन कार्य।1950 के आस पास शुरू हुआ लेखन एवम सृजन का यह सफ़र आज 86 वर्ष की उम्र में भी जारी है। अभी हाल में ही नेशनल बुक ट्रस्ट,इंडिया से बाल उपन्यास मौत के चंगुल में प्रकाशित।
सम्पर्क---
प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव
mobile---07376627886

3 टिप्पणियाँ:

Naman 5 सितंबर 2015 को 2:07 am  

अनुपम ..............

Kavita Rawat 1 अक्तूबर 2015 को 7:29 am  

.. सीबू जैसे बच्चो को समझाना कतई सरल नहीं होता ... कहानी मुझे जैसे अपनी से लगी ... मैं भी बच्चों को बहुत प्यार से समझाती हूँ लेकिन बच्चे सब्र की इंतहा कर देते हैं तो दो चार लपाडे पड़ ही जाते हैं ..बाद में उनका रोना सुबकना चलता रहता है .. बहुत सोचती हूँ की आगे से हाथ नहीं उठाऊंगी लेकिन कभी कभार नौबत आ ही जाती हैं ..आजकल के बच्चे बहुत जिद्दी लगते हैं ... दूसरों के बच्चों को समझाना आसान लगता है मुझे लेकिन अपने बच्चों को ..टेढ़ी खीर ....
प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी की कहानी "पिघला हुआ विद्रोह" मर्म को छू गयी ...
प्रस्तुति हेतु आपका आभार!

GathaEditor Onlinegatha 11 अक्तूबर 2015 को 11:32 pm  

Start self publishing with leading digital publishing company and start selling more copies
Publish ebook with ISBN, Print on Demand

एक टिप्पणी भेजें

लेबल

‘देख लूं तो चलूं’ “देश भीतर देश”--के बहाने नार्थ ईस्ट की पड़ताल “बखेड़ापुर” के बहाने “बालवाणी” का बाल नाटक विशेषांक। “मेरे आंगन में आओ” 1mai 2011 48 घण्टों का सफ़र----- अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अण्डमान का लड़का अनुरोध अनुवाद अभिनव पाण्डेय अभिभावक अर्पणा पाण्डेय। अशोक वाटिका प्रसंग अस्तित्व आज के संदर्भ में कल आतंक। आतंकवाद आत्मकथा आने वाली किताब आभासी दुनिया आश्वासन इंतजार इण्टरनेट ईमान उत्तराधिकारी उनकी दुनिया उन्मेष उपन्यास उपन्यास। उलझन ऊँचाई ॠतु गुप्ता। एक ठहरा दिन एक बच्चे की चिट्ठी सभी प्रत्याशियों के नाम एक भूख -- तीन प्रतिक्रियायें एक महान व्यक्तित्व। एक संवाद अपनी अम्मा से एल0ए0शेरमन एहसास ओ मां ओडिया कविता औरत औरत की बोली कंचन पाठक। कटघरे के भीतर्। कठपुतलियाँ कथा साहित्य कथावाचन कला समीक्षा कविता कविता। कविताएँ कहां खो गया बचपन कहां पर बिखरे सपने--।बाल श्रमिक कहानी कहानी कहना कहानी कहना भाग -५ कहानी सुनाना कहानी। काल चक्र काव्य काव्य संग्रह किताबें किशोर किशोर शिक्षक किश्प्र किस्सागोई कीमत कुछ अलग करने की चाहत कुछ लघु कविताएं कुपोषण कैसे कैसे बढ़ता बच्चा कौशल पाण्डेय कौशल पाण्डेय. कौशल पाण्डेय। क्षणिकाएं खतरा खेत आज उदास है खोजें और जानें गजल ग़ज़ल गर्मी गाँव गीत गीताश्री गुलमोहर गौरैया गौरैया दिवस घर में बनाएं माहौल कुछ पढ़ने और पढ़ाने का घोसले की ओर चिक्कामुनियप्पा चिडिया चिड़िया चित्रकार चुनाव चुनाव और बच्चे। चौपाल छोटे बच्चे ---जिम्मेदारियां बड़ी बड़ी जज्बा जज्बा। जयश्री राय। जयश्री रॉय। जागो लड़कियों जाडा जाने क्यों ? जेठ की दुपहरी टिक्कू का फैसला टोपी डा0 हेमन्त कुमार डा0दिविक रमेश। डा0रघुवंश डा०रूप चन्द्र शास्त्री डा0सुरेन्द्र विक्रम के बहाने डा0हेमन्त कुमार डा0हेमन्त कुमार। डा0हेमन्त कुमार्। डॉ.ममता धवन तकनीकी विकास और बच्चे। तपस्या तलाश एक द्रोण की तितलियां तीसरी ताली तुम आए तो थियेटर दरख्त दशरथ प्रकरण दस्तक दुनिया का मेला दुनियादार दूरदर्शी देश दोहे द्वीप लहरी नई किताब नदी किनारे नया अंक नया तमाशा नयी कहानी नववर्ष नवोदित रचनाकार। नागफ़नियों के बीच नारी अधिकार निकट नियति निवेदिता मिश्र झा निषाद प्रकरण। नेता जी नेता जी के नाम एक बच्चे का पत्र(भाग-2) नेहा शेफाली नेहा शेफ़ाली। पढ़ना पतवार पत्रकारिता-प्रदीप प्रताप पत्रिका पत्रिका समीक्षा परम्परा परिवार पर्यावरण पहली बारिश में पहले कभी पहाड़ पार रूप के पिघला हुआ विद्रोह पिता पिता हो गये मां पितृ दिवस पुरस्कार पुस्तक चर्चा पुस्तक समीक्षा पुस्तक समीक्षा। पेड़ पेड़ बनाम आदमी पेड़ों में आकृतियां पेण्टिंग प्यारी टिप्पणियां प्यारी लड़की प्रकृति प्रताप सहगल प्रथामिका शिक्षा प्रदीप सौरभ प्रदीप सौरभ। प्राथमिक शिक्षा प्राथमिक शिक्षा। प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव। प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव. प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव। फ़ादर्स डे।बदलते चेहरे के समय आज का पिता। फिल्म फिल्म ‘दंगल’ के गीत : भाव और अनुभूति फ़ेसबुक बखेड़ापुर बचपन बचपन के दिन बच्चे बच्चे और कला बच्चे का नाम बच्चे पढ़ें-मम्मी पापा को भी पढ़ाएं बच्चे। बच्चों का विकास और बड़ों की जिम्मेदारियां बच्चों का आहार बच्चों का विकास बदलाव बया बहनें बाजू वाले प्लाट पर बारिश बारिश का मतलब बारिश। बाल अधिकार बाल अपराधी बाल दिवस बाल नाटक बाल पत्रिका बाल मजदूरी बाल मन बाल रंगमंच बाल विकास बाल साहित्य बाल साहित्य प्रेमियों के लिये बेहतरीन पुस्तक बाल साहित्य समीक्षा। बाल साहित्यकार बालवाटिका बालवाणी बालश्रम बालिका दिवस बालिका दिवस-24 सितम्बर। बीसवीं सदी का जीता-जागता मेघदूत बूढ़ी नानी बेंगाली गर्ल्स डोण्ट बेटियां बैग में क्या है ब्लाग चर्चा भजन भजन-(7) भजन-(8) भजन(4) भजन(5) भजनः (2) भयाक्रांत भारतीय रेल मंथन मजदूर दिवस्। मदर्स डे मनीषियों से संवाद--एक अनवरत सिलसिला कौशल पाण्डेय मनोविज्ञान महुअरिया की गंध माँ मां का दूध माझी माझी गीत मातृ दिवस मानस मानसी। मानोशी मासूम पेंडुकी मासूम लड़की मुद्दा मुन्नी मोबाइल मेरी अम्मा। मेरी कविता मेरी रचनाएँ मेरे मन में मोइन और राक्षस मोनिका अग्रवाल मौत के चंगुल में मौत। मौसम यात्रा युवा रंगबाजी करते राजीव जी रस्म मे दफन इंसानियत राजीव मिश्र राजेश्वर मधुकर राजेश्वर मधुकर। रामकली रामकिशोर रिपोर्ट रिमझिम पड़ी फ़ुहार रूचि लगन लघुकथा लघुकथा। लड़कियां लड़कियां। लड़की लालटेन चौका। लू लू की सनक लेख लेख। लौटना वनवास या़त्रा प्रकरण वरदान वर्कशाप वर्ष २००९ वह दालमोट की चोरी और बेंत की पिटाई वह सांवली लड़की वाल्मीकि आश्रम प्रकरण विकास विचार विमर्श। विश्व रंगमंच दिवस व्यंग्य व्यक्तित्व व्यन्ग्य शक्ति बाण प्रकरण शाम शायद चाँद से मिली है शिक्षक शिक्षक दिवस शिक्षक। शिक्षा शिक्षालय शैलजा पाठक। शैलेन्द्र संदेश संध्या आर्या। संसद संस्मरण संस्मरण। सड़क दुर्घटनाएं सन्ध्या आर्य सन्नाटा सपने दर सपने सफ़लता का रहस्य सबरी प्रसंग सभ्यता समय समर कैम्प समाज समीक्षा। समीर लाल। सर्दियाँ सांता क्लाज़ साधना। सामायिक सारी रात साहित्य अमृत सीता का त्याग.राजेश्वर मधुकर। सुनीता कोमल सुरक्षा सूनापन सूरज सी हैं तेज बेटियां सोशल साइट्स स्तनपान स्त्री विमर्श। स्वतन्त्रता। हंस रे निर्मोही हक़ हादसा। हाशिये पर हिन्दी का बाल साहित्य हिन्दी ब्लाग हिन्दी ब्लाग के स्तंभ हिम्मत होलीनामा हौसला accidents. Bअच्चे का विकास। Breast Feeding. Child health Child Labour. Children children. Children's Day Children's Devolpment and art. Children's Growth children's health. children's magazines. Children's Rights Children's theatre children's world. Facebook. Fader's Day. Gender issue. Girls Kavita. lekh lekhh masoom Neha Shefali. perenting. Primary education. Pustak samikshha. Rina's Photo World.रीना पीटर.रीना पीटर की फ़ोटो की दुनिया.तीसरी आंख। Teenagers Thietor Education. Youth

हमारीवाणी

www.hamarivani.com

ब्लागवार्ता


CG Blog

ब्लागोदय


CG Blog

ब्लॉग आर्काइव

  © क्रिएटिव कोना Template "On The Road" by Ourblogtemplates.com 2009 and modified by प्राइमरी का मास्टर

Back to TOP