यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 1 नवंबर 2008

ब्लॉग क्यों ?

मैं पिछले लगभग तीन दशकों से बच्चों के लिए काम कर रहा हूँप्रिंट और इलेक्ट्रानिक दोनों ही माध्यमों के द्वाराफ़िर मुझे ब्लॉग शुरू करने की जरूरत क्यों पड़ गयीबात बहुत सीधी सी हैमुझे इधर ये दोनों माध्यम नाकाफी लग रहे थेलोगों तक अपनी बात पहुँचाने के लिए
मुझे लग रहा था की मुझे कोई तीसरा माध्यम भी अपनाना चाहिए
दूसरी बात यह है की ,मैं एक ऐसे मंच का निर्माण भी करना चाह रहा था जिस पर मैं बच्चों के लिए काम करने , चिंता करने वाले दुनिया भर के लोगों को अपने साथ जोड़ सकूं
इस समय पूरी दुनिया भर में बच्चों की जो स्थिति है ,
उससे हर संवेदनशील व्यक्ति परिचित होगा .(खासकर अविकसित देशों के बच्चों की ).एक तरफ़ उन्हें अशिक्षा , गरीबी प्रदुषण जैसी समस्याओं से जूझना पड़ रहा है तो दूसरी तरफ़ उनका साबका कुपोषण ,और एड्स जैसी बीमारियों से भी पड़ रहा है .
आज दुनिया भर में बढ़ते आतंकवाद के कारन हर देश के बच्चों का बचपन डर और अनजाने भय की लम्बी अभेद्य सुरंगों में खोता जा रहा है . दुनिया के हर देश के बच्चे आज मजबूर हो गए है रात रात भर जागने और बार बार डर कर आँखें बंद कर लेने के लिए

मैंने कुछ दिनों पहले एक कविता ऐसे ही बच्चों की मानसिक स्थितियों पर लिखी थीइसे आप भी पढिये

भयाक्रांत

उसकी आँखों की
पुतलियों में
अब नहीं होती
कोई हलचल
सतरंगे गुब्बारों
और लाल पन्नी वाले
चश्मों को देख कर
नहीं फड़कते हैं अब
उसके होंठ
बांसुरी बजाने के लिए
नहीं मचलती हैं उसकी उंगलियाँ
रंगीन तितलियों के मखमली स्पर्श
को महसूस करने के लिए

उसके पावों में
नहीं होती कोई हलचल
अब
गली में मदारी की
दुग्दुगी की आवाज सुनकर
नहीं उठाती है उसकी गुलेल
कच्ची अमियों पर निशाना
लगाने के लिए .
पिछले कुछ दिनों से
उसकी आँखों में
जम गया है खून
होंठों पर लग गया है ताला
लग गयी है जंग
हाथों और पांवों में
जब से उसने देखा है
अपने गाँव की कच्ची गलियों में
फौलादी मोटरों की कवायद
संगीनों की चमक
और बारूद के धमाकों के बीच
अपनी बूढी दादी और बड़ी बहन
की लाशों को
खाकी वर्दी द्वारा
घसीटे जाते हुए

बच्चों की इन हालातों को हम कैसे बदल सकते हैं ?उन्हें एक सामान्य जीवन देने के लिए हम क्या कर सकते हैं?आप भी यदि इन मुद्दों पर कुछ सोच रहे हैं तो क्रिएटिव कोना
में आप का खुले दिल से स्वागत है
हेमंतकुमार 01।11.08

4 टिप्पणियाँ:

mahi 1 नवंबर 2008 को 6:36 am  

sir,it is a pleasure to see that in today's world,where a mad-rush is going on and people dont have the time to take care of themselves,there are active people like you who still care for the world's children....there are people who think, who speak ,who promise, but very less people who keep their word...n take things seriously....and i think u r one among them......Now since you have started this blog...surely ppl will come up n will make this world a bettr place to live in ....as children are the future of this world....n working 4 their bttrmnt means wrkng 4 the bttrmnt of mankind....lookng 4ward to more such wondrful aticles n poems.......

evaluator 2 नवंबर 2008 को 11:55 pm  

Dear Sir, there is still a lot needed to be done for bringing a paradigm shift in the lives of millions of the downtrodden, uneducated and below poverty line children. Since, these children are the future of our nation special emphasis should be given for their socio-economic upgradation. I appreciate your efforts. Best wishes.

Aashoo 7 नवंबर 2008 को 10:55 pm  

Hemant Ji,

Aap Ka blog padha bahut achha laga. Especially I was extremely impressed with your selfless devotion and your work with children and caring for them. This world needs more people like you. Please keep up good work and keep this beacon of hope lit-up for these kids to get directions and motivation.

Aashoo

Parul 8 नवंबर 2008 को 8:22 am  

so many thanx for ur apperciation..
thanx a lot sir...i have seen ur work..ur creativity..its too gud..

एक टिप्पणी भेजें

लेबल

. ‘देख लूं तो चलूं’ “देश भीतर देश”--के बहाने नार्थ ईस्ट की पड़ताल “बखेड़ापुर” के बहाने “बालवाणी” का बाल नाटक विशेषांक। “मेरे आंगन में आओ” 1mai 2011 48 घण्टों का सफ़र----- अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अण्डमान का लड़का अनुरोध अनुवाद अभिनव पाण्डेय अभिभावक अर्पणा पाण्डेय। अशोक वाटिका प्रसंग अस्तित्व आज के संदर्भ में कल आतंक। आतंकवाद आत्मकथा आने वाली किताब आभासी दुनिया आश्वासन इंतजार इण्टरनेट ईमान उत्तराधिकारी उनकी दुनिया उन्मेष उपन्यास उपन्यास। उलझन ऊँचाई ॠतु गुप्ता। एक ठहरा दिन एक बच्चे की चिट्ठी सभी प्रत्याशियों के नाम एक भूख -- तीन प्रतिक्रियायें एक महान व्यक्तित्व। एक संवाद अपनी अम्मा से एल0ए0शेरमन एहसास ओ मां ओडिया कविता औरत औरत की बोली कंचन पाठक। कटघरे के भीतर्। कठपुतलियाँ कथा साहित्य कथावाचन कला समीक्षा कविता कविता। कविताएँ कवितायेँ कहां खो गया बचपन कहां पर बिखरे सपने--।बाल श्रमिक कहानी कहानी कहना कहानी कहना भाग -५ कहानी सुनाना कहानी। काल चक्र काव्य काव्य संग्रह किताबें किशोर किशोर शिक्षक किश्प्र किस्सागोई कीमत कुछ अलग करने की चाहत कुछ लघु कविताएं कुपोषण कैमरे. कैसे कैसे बढ़ता बच्चा कौशल पाण्डेय कौशल पाण्डेय. कौशल पाण्डेय। क्षणिकाएं खतरा खेत आज उदास है खोजें और जानें गजल ग़ज़ल गर्मी गाँव गीत गीतांजलि गिरवाल गीतांजलि गिरवाल की कविताएं गीताश्री गुलमोहर गौरैया गौरैया दिवस घर में बनाएं माहौल कुछ पढ़ने और पढ़ाने का घोसले की ओर चिक्कामुनियप्पा चिडिया चिड़िया चित्रकार चुनाव चुनाव और बच्चे। चौपाल छोटे बच्चे ---जिम्मेदारियां बड़ी बड़ी जज्बा जज्बा। जयश्री राय। जयश्री रॉय। जागो लड़कियों जाडा जात। जाने क्यों ? जेठ की दुपहरी टिक्कू का फैसला टोपी ठहराव डा0 हेमन्त कुमार डा0दिविक रमेश। डा0रघुवंश डा०रूप चन्द्र शास्त्री डा0सुरेन्द्र विक्रम के बहाने डा0हेमन्त कुमार डा0हेमन्त कुमार। डा0हेमन्त कुमार्। डॉ.ममता धवन तकनीकी विकास और बच्चे। तपस्या तलाश एक द्रोण की तितलियां तीसरी ताली तुम आए तो थियेटर दरख्त दशरथ प्रकरण दस्तक दुनिया का मेला दुनियादार दूरदर्शी देश दोहे द्वीप लहरी नई किताब नदी किनारे नया अंक नया तमाशा नयी कहानी नववर्ष नवोदित रचनाकार। नागफ़नियों के बीच नारी अधिकार नारी विमर्श निकट नियति निवेदिता मिश्र झा निषाद प्रकरण। नेता जी नेता जी के नाम एक बच्चे का पत्र(भाग-2) नेहा शेफाली नेहा शेफ़ाली। पढ़ना पतवार पत्रकारिता-प्रदीप प्रताप पत्रिका पत्रिका समीक्षा परम्परा परिवार पर्यावरण पहली बारिश में पहले कभी पहले खुद करें–फ़िर कहें बच्चों से पहाड़ पाठ्यक्रम में रंगमंच पार रूप के पिघला हुआ विद्रोह पिता पिता हो गये मां पितृ दिवस पुनर्पाठ पुरस्कार पुस्तक चर्चा पुस्तक समीक्षा पुस्तक समीक्षा। पेड़ पेड़ बनाम आदमी पेड़ों में आकृतियां पेण्टिंग प्यारी टिप्पणियां प्यारी लड़की प्रकृति प्रताप सहगल प्रथामिका शिक्षा प्रदीप सौरभ प्रदीप सौरभ। प्राथमिक शिक्षा प्राथमिक शिक्षा। प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव। प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव. प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव। फ़ादर्स डे।बदलते चेहरे के समय आज का पिता। फिल्म फिल्म ‘दंगल’ के गीत : भाव और अनुभूति फ़ेसबुक बखेड़ापुर बचपन बचपन के दिन बच्चे बच्चे और कला बच्चे का नाम बच्चे का स्वास्थ्य। बच्चे पढ़ें-मम्मी पापा को भी पढ़ाएं बच्चे। बच्चों का विकास और बड़ों की जिम्मेदारियां बच्चों का आहार बच्चों का विकास बदलाव बया बहनें बाजू वाले प्लाट पर बारिश बारिश का मतलब बारिश। बाल अधिकार बाल अपराधी बाल दिवस बाल नाटक बाल पत्रिका बाल मजदूरी बाल मन बाल रंगमंच बाल विकास बाल साहित्य बाल साहित्य प्रेमियों के लिये बेहतरीन पुस्तक बाल साहित्य समीक्षा। बाल साहित्यकार बालवाटिका बालवाणी बालश्रम बालिका दिवस बालिका दिवस-24 सितम्बर। बीसवीं सदी का जीता-जागता मेघदूत बूढ़ी नानी बेंगाली गर्ल्स डोण्ट बेटियां बैग में क्या है ब्लाग चर्चा भजन भजन-(7) भजन-(8) भजन(4) भजन(5) भजनः (2) भद्र पुरुष भयाक्रांत भारतीय रेल मंथन मजदूर दिवस्। मदर्स डे मनीषियों से संवाद--एक अनवरत सिलसिला कौशल पाण्डेय मनोविज्ञान महुअरिया की गंध माँ मां का दूध मां का दूध अमृत समान माझी माझी गीत मातृ दिवस मानस मानसी। मानोशी मासूम पेंडुकी मासूम लड़की मुद्दा मुन्नी मोबाइल मेरी अम्मा। मेरी कविता मेरी रचनाएँ मेरे मन में मोइन और राक्षस मोनिका अग्रवाल मौत के चंगुल में मौत। मौसम यात्रा युवा रंगबाजी करते राजीव जी रस्म मे दफन इंसानियत राजीव मिश्र राजेश्वर मधुकर राजेश्वर मधुकर। रामकली रामकिशोर रिपोर्ट रिमझिम पड़ी फ़ुहार रूचि लगन लघुकथा लघुकथा। लड़कियां लड़कियां। लड़की लालटेन चौका। लू लू की सनक लेख लेख। लेखसमय की आवश्यकता लोक संस्कृति लौटना वनवास या़त्रा प्रकरण वरदान वर्कशाप वर्ष २००९ वह दालमोट की चोरी और बेंत की पिटाई वह सांवली लड़की वाल्मीकि आश्रम प्रकरण विकास विचार विमर्श। विश्व फोटोग्राफी दिवस विश्व रंगमंच दिवस व्यंग्य व्यक्तित्व व्यन्ग्य शक्ति बाण प्रकरण शाम शायद चाँद से मिली है शिक्षक शिक्षक दिवस शिक्षक। शिक्षा शिक्षालय शैलजा पाठक। शैलेन्द्र श्र प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव स्मृति साहित्य प्रतियोगिता संजा पर्व–मालवा संस्कृति का अनोखा त्योहार संदेश संध्या आर्या। संसद संस्मरण संस्मरण। सड़क दुर्घटनाएं सन्ध्या आर्य सन्नाटा सपने दर सपने सफ़लता का रहस्य सबरी प्रसंग सभ्यता समय समर कैम्प समाज समीक्षा। समीर लाल। सर्दियाँ सांता क्लाज़ साधना। सामायिक सारी रात साहित्य अमृत सीता का त्याग.राजेश्वर मधुकर। सुनीता कोमल सुरक्षा सूनापन सूरज सी हैं तेज बेटियां सोशल साइट्स स्तनपान स्त्री विमर्श। स्वतन्त्रता। हंस रे निर्मोही हक़ हादसा। हाशिये पर हिन्दी का बाल साहित्य हिंदी कविता हिन्दी ब्लाग हिन्दी ब्लाग के स्तंभ हिम्मत होलीनामा हौसला accidents. Bअच्चे का विकास। Breast Feeding. Child health Child Labour. Children children. Children's Day Children's Devolpment and art. Children's Growth children's health. children's magazines. Children's Rights Children's theatre children's world. Facebook. Fader's Day. Gender issue. Girl child.. Girls Kavita. lekh lekhh masoom Neha Shefali. perenting. Primary education. Pustak samikshha. Rina's Photo World.रीना पीटर.रीना पीटर की फ़ोटो की दुनिया.तीसरी आंख। Teenagers Thietor Education. World Photography day Youth

हमारीवाणी

www.hamarivani.com

ब्लागवार्ता


CG Blog

ब्लागोदय


CG Blog

ब्लॉग आर्काइव

  © क्रिएटिव कोना Template "On The Road" by Ourblogtemplates.com 2009 and modified by प्राइमरी का मास्टर

Back to TOP