यह ब्लॉग खोजें

लड़की

बुधवार, 18 फ़रवरी 2009

भाई की थाली की जूठन
खाती है जब लड़की
फ्राक पे रोज नया पैबंद
लगाती है जब लड़की

फ़िर क्यों हरदम कोसी जाती
प्यारी सी एक लड़की।

आँखों में कितने सपने बंद
दिल में ढेरों हैं अरमान
आंवे के बरतन सा तपती
हर घर आँगन की इक लड़की
फ़िर क्यों हरदम कोसी जाती
मनहूस कहाती प्यारी लड़की।

यूँ तो घर की खुली खिड़कियाँ
दरवाजे भी खुले खुले हैं
पर घोर अंधेरी गुफा में दिन भर
बैठी रहती है हर लड़की
फ़िर क्यों हरदम कोसी जाती
प्यारी सी सुंदर सी लड़की।

भाई को तो नयी किताबें
नयी शर्ट और नयी जुराबें
दुनिया के हर रस्ते उनके
खुशियाँ सारी दर पे उनके
घर की चार दीवारी भीतर
घुटती है क्यों प्यारी लड़की।

रोज सुबह क्यों कोसी जाती
मनहूस कहाती प्यारी लड़की।

************
हेमंत कुमार

12 टिप्पणियाँ:

the pink orchid 18 फ़रवरी 2009 को 9:35 am  

aapne to ek bahut purana dard jaga diya Hemant ji.. sundar abhivyakti..

Nirmla Kapila 18 फ़रवरी 2009 को 7:41 pm  

ेक यथार्थ की सुन्दर् अभिव्यक्ति है आज मेरि कविता भी कुछ्ह ऐसी ही है देखें--www.veerbahuti.blogspot.com

रश्मि प्रभा 18 फ़रवरी 2009 को 9:45 pm  

हर व्यक्ति अपनी-अपनी जगह से पहल करे
रहने दे उसे प्यारी मासूम लडकी
तो प्रश्न ख़त्म होगा
भाई-बहन के सनद समाँ व्यवहार होगा...
बहुत अच्छी रचना

JHAROKHA 19 फ़रवरी 2009 को 9:31 am  

आदरणीय हेमंत जी ,
आपने लडकी कविता के माध्यम से भारतीय समाज में लड़कियों की हो रही उपेक्षा को पूरी तरह उजागर किया है .भारतीय समाज को इस भेद भावः को हटाना ही होगा तभी देश आगे बढेगा .शुभकामनायें .

Hari Joshi 19 फ़रवरी 2009 को 9:44 pm  

AAPKEE KALAM KO SALAAM. BHAAVUK KAR JHAKJHOR DENE VAALEE KAVITA.

दिगम्बर नासवा 21 फ़रवरी 2009 को 1:20 am  

बहूत शशक्त लेखन, गहरा चिंतन, समाज में फैले इस जहर को जाने कब कोई शंकर पियेंगे.
लड्की की त्रासदी को गहरे से उभारा है आपने

kumar Dheeraj 21 फ़रवरी 2009 को 1:23 am  

हमारे समाज की यही सच्चाई है । एक ही घर में पैदा हुए संतानों में एक के साथ कैसा व्यवहार और एक के साथ कैसा व्यवहार । लेकिन इस व्यवहार के प्रति जागरूक होने की सख्त जरूरत है

hem pandey 21 फ़रवरी 2009 को 6:09 am  

सम्वेदनशील प्रस्तुति के लिए साधुवाद..

Shamikh Faraz 21 फ़रवरी 2009 को 7:51 pm  

hemant ji aik achhi kavita ke lie badhai. main aapka bahut bahut aabhari hun ke aapne mere blog par coment kiya

Dr. shyam gupta 22 फ़रवरी 2009 को 11:13 pm  

hamant ji,
bahut shaandaar va samaajik sarokaar se sambandhit kavitaa hai. parantu Haan , aaj to ladkiyaan ab us mukaam par naheen raheen ,fir bhee samaaj ke darpan par jamee dhundh baar- baar saaf karte rahnaa aavashyak hai. BADHAAEE sweekaar karen.

sandhyagupta 23 फ़रवरी 2009 को 2:46 am  

Nari jati ke prati aapki sanvedna is kavita me mahsoos ki ja sakti hai.

pritigupta 24 फ़रवरी 2009 को 11:10 pm  

ladki phir bhi ladki hai ,
kosi jaati hai, dutkaari jaati hai,
par shrist ki nirmatri hai,
yahi jab samajh jaayege log ladkii ko sar maathe bithaayege log ,
kalam me paida karni hai wo takat jo badal de ladkii kii tasveer samaaj me

एक टिप्पणी भेजें

लेबल

‘देख लूं तो चलूं’ “देश भीतर देश”--के बहाने नार्थ ईस्ट की पड़ताल “बखेड़ापुर” के बहाने “बालवाणी” का बाल नाटक विशेषांक। “मेरे आंगन में आओ” 1mai 2011 48 घण्टों का सफ़र----- अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अण्डमान का लड़का अनुरोध अनुवाद अभिनव पाण्डेय अभिभावक अर्पणा पाण्डेय। अशोक वाटिका प्रसंग अस्तित्व आज के संदर्भ में कल आतंक। आतंकवाद आत्मकथा आने वाली किताब आभासी दुनिया आश्वासन इंतजार इण्टरनेट ईमान उत्तराधिकारी उनकी दुनिया उन्मेष उपन्यास उपन्यास। उलझन ऊँचाई ॠतु गुप्ता। एक ठहरा दिन एक बच्चे की चिट्ठी सभी प्रत्याशियों के नाम एक भूख -- तीन प्रतिक्रियायें एक महान व्यक्तित्व। एक संवाद अपनी अम्मा से एल0ए0शेरमन एहसास ओ मां ओडिया कविता औरत औरत की बोली कंचन पाठक। कटघरे के भीतर्। कठपुतलियाँ कथा साहित्य कथावाचन कला समीक्षा कविता कविता। कविताएँ कहां खो गया बचपन कहां पर बिखरे सपने--।बाल श्रमिक कहानी कहानी कहना कहानी कहना भाग -५ कहानी सुनाना कहानी। काल चक्र काव्य काव्य संग्रह किताबें किशोर किशोर शिक्षक किश्प्र किस्सागोई कीमत कुछ अलग करने की चाहत कुछ लघु कविताएं कुपोषण कैसे कैसे बढ़ता बच्चा कौशल पाण्डेय कौशल पाण्डेय. कौशल पाण्डेय। क्षणिकाएं खतरा खेत आज उदास है खोजें और जानें गजल ग़ज़ल गर्मी गाँव गीत गीताश्री गुलमोहर गौरैया गौरैया दिवस घर में बनाएं माहौल कुछ पढ़ने और पढ़ाने का घोसले की ओर चिक्कामुनियप्पा चिडिया चिड़िया चित्रकार चुनाव चुनाव और बच्चे। चौपाल छोटे बच्चे ---जिम्मेदारियां बड़ी बड़ी जज्बा जज्बा। जयश्री राय। जयश्री रॉय। जागो लड़कियों जाडा जाने क्यों ? जेठ की दुपहरी टिक्कू का फैसला टोपी डा0 हेमन्त कुमार डा0दिविक रमेश। डा0रघुवंश डा०रूप चन्द्र शास्त्री डा0सुरेन्द्र विक्रम के बहाने डा0हेमन्त कुमार डा0हेमन्त कुमार। डा0हेमन्त कुमार्। डॉ.ममता धवन तकनीकी विकास और बच्चे। तपस्या तलाश एक द्रोण की तितलियां तीसरी ताली तुम आए तो थियेटर दरख्त दशरथ प्रकरण दस्तक दुनिया का मेला दुनियादार दूरदर्शी देश दोहे द्वीप लहरी नई किताब नदी किनारे नया अंक नया तमाशा नयी कहानी नववर्ष नवोदित रचनाकार। नागफ़नियों के बीच नारी अधिकार निकट नियति निवेदिता मिश्र झा निषाद प्रकरण। नेता जी नेता जी के नाम एक बच्चे का पत्र(भाग-2) नेहा शेफाली नेहा शेफ़ाली। पढ़ना पतवार पत्रकारिता-प्रदीप प्रताप पत्रिका पत्रिका समीक्षा परम्परा परिवार पर्यावरण पहली बारिश में पहले कभी पहाड़ पार रूप के पिघला हुआ विद्रोह पिता पिता हो गये मां पितृ दिवस पुरस्कार पुस्तक चर्चा पुस्तक समीक्षा पुस्तक समीक्षा। पेड़ पेड़ बनाम आदमी पेड़ों में आकृतियां पेण्टिंग प्यारी टिप्पणियां प्यारी लड़की प्रकृति प्रताप सहगल प्रथामिका शिक्षा प्रदीप सौरभ प्रदीप सौरभ। प्राथमिक शिक्षा प्राथमिक शिक्षा। प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव। प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव. प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव। फ़ादर्स डे।बदलते चेहरे के समय आज का पिता। फिल्म फिल्म ‘दंगल’ के गीत : भाव और अनुभूति फ़ेसबुक बखेड़ापुर बचपन बचपन के दिन बच्चे बच्चे और कला बच्चे का नाम बच्चे पढ़ें-मम्मी पापा को भी पढ़ाएं बच्चे। बच्चों का विकास और बड़ों की जिम्मेदारियां बच्चों का आहार बच्चों का विकास बदलाव बया बहनें बाजू वाले प्लाट पर बारिश बारिश का मतलब बारिश। बाल अधिकार बाल अपराधी बाल दिवस बाल नाटक बाल पत्रिका बाल मजदूरी बाल मन बाल रंगमंच बाल विकास बाल साहित्य बाल साहित्य प्रेमियों के लिये बेहतरीन पुस्तक बाल साहित्य समीक्षा। बाल साहित्यकार बालवाटिका बालवाणी बालश्रम बालिका दिवस बालिका दिवस-24 सितम्बर। बीसवीं सदी का जीता-जागता मेघदूत बूढ़ी नानी बेंगाली गर्ल्स डोण्ट बेटियां बैग में क्या है ब्लाग चर्चा भजन भजन-(7) भजन-(8) भजन(4) भजन(5) भजनः (2) भयाक्रांत भारतीय रेल मंथन मजदूर दिवस्। मदर्स डे मनीषियों से संवाद--एक अनवरत सिलसिला कौशल पाण्डेय मनोविज्ञान महुअरिया की गंध माँ मां का दूध माझी माझी गीत मातृ दिवस मानस मानसी। मानोशी मासूम पेंडुकी मासूम लड़की मुद्दा मुन्नी मोबाइल मेरी अम्मा। मेरी कविता मेरी रचनाएँ मेरे मन में मोइन और राक्षस मोनिका अग्रवाल मौत के चंगुल में मौत। मौसम यात्रा युवा रंगबाजी करते राजीव जी रस्म मे दफन इंसानियत राजीव मिश्र राजेश्वर मधुकर राजेश्वर मधुकर। रामकली रामकिशोर रिपोर्ट रिमझिम पड़ी फ़ुहार रूचि लगन लघुकथा लघुकथा। लड़कियां लड़कियां। लड़की लालटेन चौका। लू लू की सनक लेख लेख। लौटना वनवास या़त्रा प्रकरण वरदान वर्कशाप वर्ष २००९ वह दालमोट की चोरी और बेंत की पिटाई वह सांवली लड़की वाल्मीकि आश्रम प्रकरण विकास विचार विमर्श। विश्व रंगमंच दिवस व्यंग्य व्यक्तित्व व्यन्ग्य शक्ति बाण प्रकरण शाम शायद चाँद से मिली है शिक्षक शिक्षक दिवस शिक्षक। शिक्षा शिक्षालय शैलजा पाठक। शैलेन्द्र संदेश संध्या आर्या। संसद संस्मरण संस्मरण। सड़क दुर्घटनाएं सन्ध्या आर्य सन्नाटा सपने दर सपने सफ़लता का रहस्य सबरी प्रसंग सभ्यता समय समर कैम्प समाज समीक्षा। समीर लाल। सर्दियाँ सांता क्लाज़ साधना। सामायिक सारी रात साहित्य अमृत सीता का त्याग.राजेश्वर मधुकर। सुनीता कोमल सुरक्षा सूनापन सूरज सी हैं तेज बेटियां सोशल साइट्स स्तनपान स्त्री विमर्श। स्वतन्त्रता। हंस रे निर्मोही हक़ हादसा। हाशिये पर हिन्दी का बाल साहित्य हिन्दी ब्लाग हिन्दी ब्लाग के स्तंभ हिम्मत होलीनामा हौसला accidents. Bअच्चे का विकास। Breast Feeding. Child health Child Labour. Children children. Children's Day Children's Devolpment and art. Children's Growth children's health. children's magazines. Children's Rights Children's theatre children's world. Facebook. Fader's Day. Gender issue. Girls Kavita. lekh lekhh masoom Neha Shefali. perenting. Primary education. Pustak samikshha. Rina's Photo World.रीना पीटर.रीना पीटर की फ़ोटो की दुनिया.तीसरी आंख। Teenagers Thietor Education. Youth

हमारीवाणी

www.hamarivani.com

ब्लागवार्ता


CG Blog

ब्लागोदय


CG Blog

ब्लॉग आर्काइव

  © क्रिएटिव कोना Template "On The Road" by Ourblogtemplates.com 2009 and modified by प्राइमरी का मास्टर

Back to TOP