यह ब्लॉग खोजें

काल चक्र

सोमवार, 23 फ़रवरी 2009

काल चक्र का घुन
कुतर रहा है धीरे धीरे
मेरे जिस्म को।


इतनी धीमी गति से
की मैं
चीख न सकूं
चिल्ला न सकूं
फैला न सकूं अपने हाथ पाँव
न दे सकूं कोई बयान
अपने पक्ष में।

तुम देख सकते हो
जेल के सीखचों को एकटक ताकती
मेरी भावः शून्य आंखों के परदे पर
मेरे अतीत की तस्वीर।


की कैसे बेबस जनक के सामने ही
रौंदी गयी सीता
आताताइयों के क्रूर हाथों में
कैसे खेली गयी होली खून की
किया गया तांडव
जनक के सीने पर।

देख सकते हो की कैसे
बदल दिए जाते हैं बयान
नष्ट कर दिए जाते हैं सबूत
तोड़ मरोड़ दिए जाते हैं तथ्य
बंद कर दी जाती हैं जुबानें रातोंरात
संगीनों कीं नोक पर।

आओ तुम भी आओ
शामिल हो जाओ
घुनों की लम्बी कतार में
और कुतर डालो
छलनी कर डालो पूरी तरह
इस जिस्म को
इन भावः शून्य आंखों को
इस मस्तिष्क को
और नष्ट कर डालो मेरे होने के
हर सबूत को।


ताकि भविष्य में
कोई भी न देख सके
इस तस्वीर को
पढ़ न सके इस इतिहास को
मेरी पथराई आंखों के परदे पर
सुन न सके मेरी इस आवाज को
मेरी जुबान से।
----------
हेमंत कुमार

11 टिप्पणियाँ:

hem pandey 23 फ़रवरी 2009 को 8:35 am  

सुंदर रचना, सुंदर रेखांकन. साधुवाद.

हरि 23 फ़रवरी 2009 को 9:47 am  

भावपूर्ण रचना के लिए साधुवाद।

Manoshi 23 फ़रवरी 2009 को 6:27 pm  

गहरी रचना| मगर इतना अवसाद क्यों? (आप ’की’ को ’कि’ लिख सकते हैं)

रश्मि प्रभा 23 फ़रवरी 2009 को 11:19 pm  

देख सकते हो कि कैसे
बदल दिए जाते हैं बयान
नष्ट कर दिए जाते हैं सबूत
तोड़ मरोड़ दिए जाते हैं तथ्य
बंद कर दी जाती हैं जुबानें रातोंरात
संगीनों कीं नोक पर।.......सत्य का खुला रूप,बहुत सही

दिगम्बर नासवा 24 फ़रवरी 2009 को 5:44 am  

देख सकते हो की कैसे
बदल दिए जाते हैं बयान
नष्ट कर दिए जाते हैं सबूत
तोड़ मरोड़ दिए जाते हैं तथ्य
बंद कर दी जाती हैं जुबानें रातोंरात
संगीनों कीं नोक पर।


हेमंत जी
यथार्त जैसे बोल रहा है आपकी रचना मैं, समाज से विद्रोह करती शशक्त रचना.
आज के समाज का सही चिंतन

बधाई हो इस मकसद भरी रचना के लिए

BrijmohanShrivastava 24 फ़रवरी 2009 को 9:04 pm  

व्यक्ति लाख चीखे ,चिल्लाये ,भागना चाहे किन्तु समय चक्र अपना प्रभाव बतलाकर ही रहता है /अपने पक्ष में दिए गए बयान न तो कोई सुन पायेगा न समझ पायेगा /हाँ हम समय चक्र को धोखा देने की कोशिश अवश्य करते है ,बाल रंगते है ,नाना प्रकार के उपाय करते है / जनक के सामने सीता वाली बात समझ से परे है चूंकि आपने लिखा है तो हो सकता है कोई ऐतिहासिक तथ्य आपने पढ़ा हो /संगीनों की नोक पर बदलने वाली बात वास्तविकता है यही हो रहा है और ऐसे में आप जैसे साहित्यकार का ध्यान जाना स्वाभाविक है /दुखी और क्रोधित ,कुछ कर सकने में असमर्थ या असक्षम दिल यही सोचता है कि मेरे अस्तित्व को मिटा दिया जाये और यही आपकी रचना का उद्देश्य है /सशक्त रचना /दिल को छू लेने वाली /

Harkirat Haqeer 24 फ़रवरी 2009 को 10:07 pm  

इतनी धीमी गति से
की मैं
चीख न सकूं
चिल्ला न सकूं
फैला न सकूं अपने हाथ पाँव
न दे सकूं कोई बयान
अपने पक्ष में।

तुम देख सकते हो
जेल के सीखचों को एकटक ताकती
मेरी भावः शून्य आंखों के परदे पर
मेरे अतीत की तस्वीर.......

Waah...! Hemant ji mujhse kehte hain meri kavitaon me jivan k her rang dikhte hain...aapki kavitaon me kya hai...? kmal ka likha hai aapne ...dil me gahre tak sma gayi ise hi kavita kehte hain....'mai mar gya ya jinda ho gya' ye koi kavita hai bhla....mun khinn ho jata hai padhkr.....!!

vinay kumar srivastava,  25 फ़रवरी 2009 को 10:34 am  

aadarniya bhai sahab,
aaj maine aap dwara rachit kavitaain padhee. aapki kavitaain bahut hi bhavuk, marmsparshi avam dil ko chune wali hoti hain. bacchon ke liye phulwari naam se naya blog shuru karne ke liye bahut-bahut badhai.
aapka chota bhai
vinay srivastava

kumar Dheeraj 27 फ़रवरी 2009 को 12:11 am  

काल चक्र पर लिखे आपके ये लेख काफी रोचक है । समय के साथ सबकुछ जायज होता जा रहा है । शुक्रिया

Shamikh Faraz 28 फ़रवरी 2009 को 10:39 pm  

kal chakra par aapke lekh qabile tareef hain. mere blog par bhi aayen

अल्पना वर्मा 5 मार्च 2009 को 5:03 am  

bahut hi achchee rachanaa.

bhaavbhari is kavita ne dil ko chhu liya.
safal abhivyakti hetu badhayee

एक टिप्पणी भेजें

लेबल

. ‘देख लूं तो चलूं’ “देश भीतर देश”--के बहाने नार्थ ईस्ट की पड़ताल “बखेड़ापुर” के बहाने “बालवाणी” का बाल नाटक विशेषांक। “मेरे आंगन में आओ” 1mai 2011 48 घण्टों का सफ़र----- अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अण्डमान का लड़का अनुरोध अनुवाद अभिनव पाण्डेय अभिभावक अर्पणा पाण्डेय। अशोक वाटिका प्रसंग अस्तित्व आज के संदर्भ में कल आतंक। आतंकवाद आत्मकथा आने वाली किताब आभासी दुनिया आश्वासन इंतजार इण्टरनेट ईमान उत्तराधिकारी उनकी दुनिया उन्मेष उपन्यास उपन्यास। उलझन ऊँचाई ॠतु गुप्ता। एक ठहरा दिन एक बच्चे की चिट्ठी सभी प्रत्याशियों के नाम एक भूख -- तीन प्रतिक्रियायें एक महान व्यक्तित्व। एक संवाद अपनी अम्मा से एल0ए0शेरमन एहसास ओ मां ओडिया कविता औरत औरत की बोली कंचन पाठक। कटघरे के भीतर्। कठपुतलियाँ कथा साहित्य कथावाचन कला समीक्षा कविता कविता। कविताएँ कवितायेँ कहां खो गया बचपन कहां पर बिखरे सपने--।बाल श्रमिक कहानी कहानी कहना कहानी कहना भाग -५ कहानी सुनाना कहानी। काल चक्र काव्य काव्य संग्रह किताबें किशोर किशोर शिक्षक किश्प्र किस्सागोई कीमत कुछ अलग करने की चाहत कुछ लघु कविताएं कुपोषण कैमरे. कैसे कैसे बढ़ता बच्चा कौशल पाण्डेय कौशल पाण्डेय. कौशल पाण्डेय। क्षणिकाएं खतरा खेत आज उदास है खोजें और जानें गजल ग़ज़ल गर्मी गाँव गीत गीतांजलि गिरवाल गीतांजलि गिरवाल की कविताएं गीताश्री गुलमोहर गौरैया गौरैया दिवस घर में बनाएं माहौल कुछ पढ़ने और पढ़ाने का घोसले की ओर चिक्कामुनियप्पा चिडिया चिड़िया चित्रकार चुनाव चुनाव और बच्चे। चौपाल छोटे बच्चे ---जिम्मेदारियां बड़ी बड़ी जज्बा जज्बा। जयश्री राय। जयश्री रॉय। जागो लड़कियों जाडा जात। जाने क्यों ? जेठ की दुपहरी टिक्कू का फैसला टोपी ठहराव डा0 हेमन्त कुमार डा0दिविक रमेश। डा0रघुवंश डा०रूप चन्द्र शास्त्री डा0सुरेन्द्र विक्रम के बहाने डा0हेमन्त कुमार डा0हेमन्त कुमार। डा0हेमन्त कुमार्। डॉ.ममता धवन तकनीकी विकास और बच्चे। तपस्या तलाश एक द्रोण की तितलियां तीसरी ताली तुम आए तो थियेटर दरख्त दशरथ प्रकरण दस्तक दुनिया का मेला दुनियादार दूरदर्शी देश दोहे द्वीप लहरी नई किताब नदी किनारे नया अंक नया तमाशा नयी कहानी नववर्ष नवोदित रचनाकार। नागफ़नियों के बीच नारी अधिकार नारी विमर्श निकट नियति निवेदिता मिश्र झा निषाद प्रकरण। नेता जी नेता जी के नाम एक बच्चे का पत्र(भाग-2) नेहा शेफाली नेहा शेफ़ाली। पढ़ना पतवार पत्रकारिता-प्रदीप प्रताप पत्रिका पत्रिका समीक्षा परम्परा परिवार पर्यावरण पहली बारिश में पहले कभी पहले खुद करें–फ़िर कहें बच्चों से पहाड़ पाठ्यक्रम में रंगमंच पार रूप के पिघला हुआ विद्रोह पिता पिता हो गये मां पितृ दिवस पुनर्पाठ पुरस्कार पुस्तक चर्चा पुस्तक समीक्षा पुस्तक समीक्षा। पेड़ पेड़ बनाम आदमी पेड़ों में आकृतियां पेण्टिंग प्यारी टिप्पणियां प्यारी लड़की प्रकृति प्रताप सहगल प्रथामिका शिक्षा प्रदीप सौरभ प्रदीप सौरभ। प्राथमिक शिक्षा प्राथमिक शिक्षा। प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव प्रेम स्वरूप श्रीवास्तव। प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव. प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव। फ़ादर्स डे।बदलते चेहरे के समय आज का पिता। फिल्म फिल्म ‘दंगल’ के गीत : भाव और अनुभूति फ़ेसबुक बखेड़ापुर बचपन बचपन के दिन बच्चे बच्चे और कला बच्चे का नाम बच्चे का स्वास्थ्य। बच्चे पढ़ें-मम्मी पापा को भी पढ़ाएं बच्चे। बच्चों का विकास और बड़ों की जिम्मेदारियां बच्चों का आहार बच्चों का विकास बदलाव बया बहनें बाजू वाले प्लाट पर बारिश बारिश का मतलब बारिश। बाल अधिकार बाल अपराधी बाल दिवस बाल नाटक बाल पत्रिका बाल मजदूरी बाल मन बाल रंगमंच बाल विकास बाल साहित्य बाल साहित्य प्रेमियों के लिये बेहतरीन पुस्तक बाल साहित्य समीक्षा। बाल साहित्यकार बालवाटिका बालवाणी बालश्रम बालिका दिवस बालिका दिवस-24 सितम्बर। बीसवीं सदी का जीता-जागता मेघदूत बूढ़ी नानी बेंगाली गर्ल्स डोण्ट बेटियां बैग में क्या है ब्लाग चर्चा भजन भजन-(7) भजन-(8) भजन(4) भजन(5) भजनः (2) भद्र पुरुष भयाक्रांत भारतीय रेल मंथन मजदूर दिवस्। मदर्स डे मनीषियों से संवाद--एक अनवरत सिलसिला कौशल पाण्डेय मनोविज्ञान महुअरिया की गंध माँ मां का दूध मां का दूध अमृत समान माझी माझी गीत मातृ दिवस मानस मानसी। मानोशी मासूम पेंडुकी मासूम लड़की मुद्दा मुन्नी मोबाइल मेरी अम्मा। मेरी कविता मेरी रचनाएँ मेरे मन में मोइन और राक्षस मोनिका अग्रवाल मौत के चंगुल में मौत। मौसम यात्रा युवा रंगबाजी करते राजीव जी रस्म मे दफन इंसानियत राजीव मिश्र राजेश्वर मधुकर राजेश्वर मधुकर। रामकली रामकिशोर रिपोर्ट रिमझिम पड़ी फ़ुहार रूचि लगन लघुकथा लघुकथा। लड़कियां लड़कियां। लड़की लालटेन चौका। लू लू की सनक लेख लेख। लेखसमय की आवश्यकता लोक संस्कृति लौटना वनवास या़त्रा प्रकरण वरदान वर्कशाप वर्ष २००९ वह दालमोट की चोरी और बेंत की पिटाई वह सांवली लड़की वाल्मीकि आश्रम प्रकरण विकास विचार विमर्श। विश्व फोटोग्राफी दिवस विश्व रंगमंच दिवस व्यंग्य व्यक्तित्व व्यन्ग्य शक्ति बाण प्रकरण शाम शायद चाँद से मिली है शिक्षक शिक्षक दिवस शिक्षक। शिक्षा शिक्षालय शैलजा पाठक। शैलेन्द्र श्र प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव स्मृति साहित्य प्रतियोगिता संजा पर्व–मालवा संस्कृति का अनोखा त्योहार संदेश संध्या आर्या। संसद संस्मरण संस्मरण। सड़क दुर्घटनाएं सन्ध्या आर्य सन्नाटा सपने दर सपने सफ़लता का रहस्य सबरी प्रसंग सभ्यता समय समर कैम्प समाज समीक्षा। समीर लाल। सर्दियाँ सांता क्लाज़ साधना। सामायिक सारी रात साहित्य अमृत सीता का त्याग.राजेश्वर मधुकर। सुनीता कोमल सुरक्षा सूनापन सूरज सी हैं तेज बेटियां सोशल साइट्स स्तनपान स्त्री विमर्श। स्वतन्त्रता। हंस रे निर्मोही हक़ हादसा। हाशिये पर हिन्दी का बाल साहित्य हिंदी कविता हिन्दी ब्लाग हिन्दी ब्लाग के स्तंभ हिम्मत होलीनामा हौसला accidents. Bअच्चे का विकास। Breast Feeding. Child health Child Labour. Children children. Children's Day Children's Devolpment and art. Children's Growth children's health. children's magazines. Children's Rights Children's theatre children's world. Facebook. Fader's Day. Gender issue. Girl child.. Girls Kavita. lekh lekhh masoom Neha Shefali. perenting. Primary education. Pustak samikshha. Rina's Photo World.रीना पीटर.रीना पीटर की फ़ोटो की दुनिया.तीसरी आंख। Teenagers Thietor Education. World Photography day Youth

हमारीवाणी

www.hamarivani.com

ब्लागवार्ता


CG Blog

ब्लागोदय


CG Blog

ब्लॉग आर्काइव

  © क्रिएटिव कोना Template "On The Road" by Ourblogtemplates.com 2009 and modified by प्राइमरी का मास्टर

Back to TOP